तेरे उन तीन शब्दों को मुझे स्वीकार करना है।
तेरी खातिर सँवरना है, तेरे ही संग चलना है।
तेरी बातों में गीता की कही लौ ढूँढ लानी है,
कभी खुद में उतरना है, कभी तुझमें उतरना है।

अभी कागज की कुछ कतरन इकठ्ठी कर न पाया हूँ,
जमाने भर की बातों की जुँबा भी बन न पाया हूँ।
खुदा ने मुझको भेजा है यहाँ तेरी ही खिदमत में,
खुदा की आशिकी की आरजू भी बन न पाया हूँ।

मगर तेरी ही बातों में मेरा दिन बीत जाता है।
कि तुझसे हार कर हर बार ये दिल जीत जाता है।
तेरे आने की उम्मीदें मैं कब से पाल बैठा हूँ,
हथेली की लकीरों पर मैं डोरे डाल बैठा हूँ।

तेरी हर बात तेरी याद मुझको ज्यों खजाना है।
तेरे खबरी की साँसों में तेरा ही आना जाना है।
कि तुझको गम नहीं होता जो तेरी याद आती है।
तुझे पाकर खुदा को भी तेरे ही संग पाना है।

कभी तपते हुऐ दिन में बरसती हो घटा सी तुम,
कभी होठों के छालों पर छिड़कती हो दवा सी तुम,
कभी माथे को सहलाती हो माँ बनकर दुआऔं में,
कभी रोती हो मेरे बिन अकेली राधिका सी तुम।

कभी चाहूँगा तुमको भी यही बस कह सका हूँ मैं,
जनम की दौड़ में सधकर-संभलकर चल रहा हूँ मैं।
तेरे रीते से बर्तन में बस दो बूँद, गंगा की,
बस दो बूँद, आँखों की समर्पण कर रहा हूँ मैं।

3 comments:

  1. तेरी बातों में गीता की कही लौ ढूँढ लानी है,
    कभी खुद में उतरना है, कभी तुझमें उतरना है।

    बहुत खूब देवेश जी

    जवाब देंहटाएं
  2. कभी तपते हुऐ दिन में बरसती हो घटा सी तुम,
    कभी होठों के छालों पर छिड़कती हो दवा सी तुम,
    कभी माथे को सहलाती हो माँ बनकर दुआऔं में,
    कभी रोती हो मेरे बिन अकेली राधिका सी तुम।

    वाह

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget