HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

देश से ग़रीबी हट कर न हट सकेगी [ग़ज़ल] - देवी नागरानी

देश से ग़रीबी हट कर न हट सकेगी
मज़बूत उसकी जड़ है, हिल कर न वो हिलेगी

धनवान और भी कुछ धनवान हो रहा है
मुफ़लिस की ज़िंदगानी, ग़ुरबत में ही कटेगी

चारों तरफ़ से शोले नफ़रत के उठ रहे हैं
इस आग में यक़ीनन, इन्सानियत जलेगी

नारो का देश हैं ये, इक शोर- सा मचा है
फ़रियाद जो भी होगी, वो अनसुनी रहेगी

सावन का लेना देना 'देवी' नहीं हैं इससे
सहरा की प्यास हैं ये, बुझकर न बुझ सकेगी

टिप्पणी पोस्ट करें

6 टिप्पणियां

  1. सावन का लेना देना 'देवी' नहीं हैं इससे
    सहरा की प्यास हैं ये, बुझकर न बुझ सकेगी


    बहुत खूब....देवी जी..सुंदर....

    आभार..

    जवाब देंहटाएं
  2. चारों तरफ़ से शोले नफ़रत के उठ रहे हैं
    इस आग में यक़ीनन, इन्सानियत जलेगी

    कटु यथार्थ को उघारती पंक्तियाँ हैं.........

    जवाब देंहटाएं
  3. चारों तरफ़ से शोले नफ़रत के उठ रहे हैं
    इस आग में यक़ीनन, इन्सानियत जलेगी
    kya khoob likha hai
    bahut bahut badhai
    sasder
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  4. नारों का देश है ये इक शोर सा मचा है ,
    फरियाद जो भी होगी वो अनसुनी रहेगी ।
    वाह देवी जी बेहतरीन गजल के लिए बधाइ । शुरु में , ‘देश से गरीबी...’ की जगह ‘इस देश से गरीबी...’ होता तो सायद लय और वज्न में पूर्णता आ जाती ।

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...