HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

इक ख़मोशी भरी गुफ़्तार यहां पर क्यूं है [ग़ज़ल] - मोईन शम्सी

सबके होते हुए वीरान मेरा घर क्यूं है,
इक ख़मोशी भरी गुफ़्तार यहां पर क्यूं है !

एक से एक है बढ़कर यहां फ़ातेह मौजूद,
तू समझता भला ख़ुद ही को सिकन्दर क्यूं है !

वो तेरे दिल में भी रहता है मेरे दिल में भी,
फिर ज़मीं पर कहीं मस्जिद कहीं मन्दर क्यूं है !

सब के होटों पे मुहब्बत के तराने हैं रवाँ,
पर नज़र आ रहा हर हाथ में ख़न्जर क्यूं है !

क्यूं हर इक चेहरे पे है कर्ब की ख़ामोश लकीर,
आंसुओं का यहां आंखों में समन्दर क्यूं है !

तू तो हिन्दू है मैं मुस्लिम हूं ज़रा ये तो बता,
रहता अक्सर तेरे कांधे पे मेरा सर क्यूं है !

काम इसका है अंधेरे में दिया दिखलाना,
राह भटका रहा ’शम्सी’ को ये रहबर क्यों है !
-------


मोईन शम्सी मूलत: बरेली (उत्तरप्रदेश) के हैं तथा पिछले अट्ठारह वर्षों से दिल्ली में अध्यापन कार्य कर रहे हैं।

कविता तथा लघुकथा लेखन के साथ साथ आपनी अभिरुचि अभिनय में भी है।

टिप्पणी पोस्ट करें

7 टिप्पणियां

  1. सुन्दर रचना !
    फिर भी एक सूनी जजाल पर आधारित है ऐसा लगा !
    कुछ नया चाहिए |

    अवनीश तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  2. सुंदर....आभार आपका...
    बधाई आपको...

    जवाब देंहटाएं
  3. shuruaat achhi thi...
    mujhe aisa laga ki bahut kuchh kehne ki chah mein baad ke shabd bhatag gaye...
    parantu, aisi soch ki badhai...

    जवाब देंहटाएं
  4. Achchhi koshish hai jagrukta ki. keep it up

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...