HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

कला-साधना [कविता] - महेन्द्र भटनागर

हर हृदय में
स्नेह की दो बूँद ढल जाएँ
कला की साधना है इसलिए !

गीत गाओ
मोम में पाषाण बदलेगा,
तप्त मरुथल में
तरल रस ज्वार मचलेगा !
गीत गाओ
शांत झंझावात होगा,
रात का साया
सुनहरा प्रात होगा !

गीत गाओ
मृत्यु की सुनसान घाटी में
नया जीवन-विहंगम चहचहाएगा !
मूक रोदन भी चकित हो
ज्योत्स्ना-सा मुसकराएगा !

हर हृदय में
जगमगाए दीप
महके मधु-सुरिभ चंदन
कला की अर्चना है इसलिए !
गीत गाओ
स्वर्ग से सुंदर धरा होगी,
दूर मानव से जरा होगी,
देव होगा नर,
व नारी अप्सरा होगी !

गीत गाओ
त्रास्त जीवन में
सरस मधुमास आ जाए,
डाल पर, हर फूल पर
उल्लास छा जाए !
पुतलियों को
स्वप्न की सौगात आए !
गीत गाओ
विश्व-व्यापी तार पर झंकार कर !
प्रत्येक मानस डोल जाए
प्यार के अनमोल स्वर पर !

हर मनुज में
बोध हो सौन्दर्य का जाग्रत
कला की कामना है इसलिए
----------
महेन्द्र भटनागर का परिचय पढें साहित्य शिल्पी के रचनाकार पृष्ठ पर।

टिप्पणी पोस्ट करें

4 टिप्पणियां

  1. गीत गाओ
    त्रास्त जीवन में
    सरस मधुमास आ जाए,
    डाल पर, हर फूल पर
    उल्लास छा जाए !
    पुतलियों को
    स्वप्न की सौगात आए !
    गीत गाओ
    विश्व-व्यापी तार पर झंकार कर !
    प्रत्येक मानस डोल जाए
    प्यार के अनमोल स्वर पर !
    sunder geet
    badhai
    saader
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  2. mahendre ji itne sunder rachna ke liye dher sari badahai sweekare

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...