HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

बहुत दिनों के बाद [ग़ज़ल] मीनाक्षी जिजीविषा

उसके चेहरे पर खुशी है देखी बहुत दिनों के बाद।
धूप हो जैसे खिली खिली सी बहुत दिनों के बाद।

देख परिन्दों ने पर खोले, मौसम नें ली अंगडाई,
फूलों पे आ कर बैठी तितली बहुत दिनों के बाद।

खत्म परीक्षा हुई और बस्तों से जान छूटी,
बच्चों की अब टोली निकली बहुत दिनों के बाद।

आई बेटियाँ मायके में घर आँगन महके चहके,
ननद भाभियाँ खेलें किकली बहुत दिनों के बाद।

बचपन की जब मिले सहेली कोई अचानक ही
याद आईं फिर बातें पिछली बहुत दिनों के बाद।

तेरा नाम लिया जब मैंने, फौरन बंद हुई,
शाम ढले जब आई हिचकी बहुत दिनों के बाद।

दहकनों के बुझे बुझे से चेहरे चमक उठे,
आसमान पर छाई बदली बहुत दिनों के बाद।

टिप्पणी पोस्ट करें

5 टिप्पणियां

  1. व्याकरण का बहुत पता नहीं , फिर भी
    काफिया - ई , रदीफ़ - बहुत दिनों बाद

    भाव नवीन और सुन्दर |

    एक अच्छी गजल |

    अवनीश तिवारी
    मुम्बई

    जवाब देंहटाएं
  2. इतने सुन्दर भावों भरी ग़ज़ल है कि पढते ही मन हरा हो गया

    जवाब देंहटाएं
  3. सुंदर...
    मंमोहक गज़ल... बधाई मीनाक्षी जी....

    जवाब देंहटाएं
  4. ek ek shel sundr hai bhavon se bhari gazal
    aap ko badhai
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  5. yeh geet hai ki, gazal hai ki, kavita hai...
    jo bhi hai ati uttam hai...
    padte hi mann sudoor desh ki sair kar aayaa...
    aur ek muskaan le aayaa...
    sadar dhanyavaad...

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...