HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

दो शिशु गीत [बाल कवितायें] - डॉ. नागेश पांडेय "संजय"

दादीजी का चश्मा

दादीजी का चश्मा खोया ,
सबकी आफत आई .
सब मिल खोज रहे हैं फिर भी
पड़ा नहीं दिखलाई .
दादी अपने सर पर देखो ,
मीना जब चिल्लाई .
राम राम फिर गजब हो गया
दादीजी शरमाई .

***

दूध का कमाल

पीकर गरम गरम दुद्धू ,
बुद्धू नहीं रहा बुद्धू .
खुले अकल के ताले सब,
नहीं अकल के लाले अब .
सुनकर अब अटपटे सबाल ,
खड़े न होते सिर के बाल .
हर जबाब अब उसके पास ,
सब उससे कहते शाबाश .

--
डॉ. नागेश पांडेय "संजय"
सुभाष नगर , शाहजहाँपुर,
उत्तर प्रदेश (भारत) - 242001.

एक टिप्पणी भेजें

4 टिप्पणियाँ

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...