ऋषि मुनियों की पावन भू पर
धन्य हुए हम जीवन पाकर
सार्थक मूल्यों के आँचल ने
बढा किया सब को दुलराकर

जिस जगती पर गर्व हमें था
सच्चे, शुचि व्यवहारों का
आज वहां पर जमघट दिखता
चोर, उचक्के, आवारों का

छीन रहे इस भू के जाए
खुद अपनों के शांति और सुख
लूट खसोट और अर्थ परिग्रह
जीवन के उद्देश्य प्रमुख

सत्ता के मैले हाथो से
हाथ मिला पा रहे सहारा
इनकी गतिविधियां शर्मनाक
घर समाज आतंकित सारा

भद्र, प्रतिष्ठित,समाज सेवी,
शासन के प्रतिनिधि, संरक्षक
माया की लोलुपता में फंस
आज बन गए समाज भक्षक

कहाँ खोगये मूल्य हमारे
कहाँ खो गयीं निधियां शाश्वत
पाश्चात्य हवाओं के झोंकों से
संभवतः हम हुए पदच्युत

अभी समय है, खोज स्वयं को
दिशा एक निर्धारित करलें
पंक्ति अंत में खड़े हुए जो
उनके संरक्षण का प्रण लें

2 comments:

  1. अभी समय है, खोज स्वयं को
    दिशा एक निर्धारित करलें
    पंक्ति अंत में खड़े हुए जो
    उनके संरक्षण का प्रण लें


    सुंदर...भाव...और सुंदर शब्द चयन....बधाई आपको श्रीप्रकाश जी...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget