HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

कितना बड़ा सितम [ग़ज़ल] - देवी नागरानी

बहता रहा जो दर्द का सैलाब था न कम
आंखें भी रो रही हैं, ये अशआर भी है नम.

जिस शाख पर खड़ा था वो, उसको ही काटता
नादां न जाने खुद पे ही करता था क्यों सितम.

रिश्तों के नाम जो भी लिखे रेगज़ार पर
कुछ लेके आंधियां गईं, कुछ तोड़ते हैं दम.

मुरझा गई बहार में, वो बन सकी न फूल
मासूम-सी कली पे ये कितना बड़ा सितम.

रोते हुए-से जश्न मनाते हैं लोग क्यों
चेहरे जो उनके देखे तो, असली लगे वो कम.
रचनाकार परिचय:-




11 मई 1949 को कराची (पाकिस्तान) में जन्मीं देवी नागरानी हिन्दी साहित्य जगत में एक सुपरिचित नाम हैं। आप की अब तक प्रकाशित पुस्तकों में "ग़म में भीगी खुशी" (सिंधी गज़ल संग्रह 2004), "उड़ जा पँछी" (सिंधी भजन संग्रह 2007) और "चराग़े-दिल" (हिंदी गज़ल संग्रह 2007) शामिल हैं। इसके अतिरिक्त कई कहानियाँ, गज़लें, गीत आदि राष्ट्रीय स्तर के पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे हैं। आप वर्तमान में न्यू जर्सी (यू.एस.ए.) में एक शिक्षिका के तौर पर कार्यरत हैं।.....

एक टिप्पणी भेजें

9 टिप्पणियाँ

  1. जिस शाख पर खड़ा था वो, उसको ही काटता
    नादां न जाने खुद पे ही करता था क्यों सितम.

    बहुत सुंदर लिखा है
    अमिता

    जवाब देंहटाएं
  2. रिश्तों के नाम जो भी लिखे रेगज़ार पर
    कुछ लेके आंधियां गईं, कुछ तोड़ते हैं दम.
    बहुत सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  3. मुरझा गई बहार में, वो बन सकी न फूल
    मासूम-सी कली पे ये कितना बड़ा सितम


    बहुत अच्छे....

    आभार
    गीता

    जवाब देंहटाएं
  4. Aap sabhi ka abhinandan karti hoon aur sahitya shilpi ke samast team ko ki hamari rachnaon ki prastuti ke liye. Paathak aur lekha ek doosre ke poorak hai..kabhi koi kami bhi ho to us or ishara karne mein koi harz nahin..
    shubhkamnaon sahit

    जवाब देंहटाएं
  5. अच्छी प्रस्तुति.........परिचय कराने के लिए शुक्रिया!

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...