HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

पारा-पारा क्यों न लगे [ग़ज़ल] - प्राण शर्मा


लाखों और करोड़ों में भी
न्यारा - न्यारा क्यों न लगे
सबको अपना - अपने बच्चा
आँख का तारा क्यों न लगे

टूट गया है रिश्ता - नाता
एक पुराने साथी से
अमृत जैसा पानी अब तो
खारा - खारा क्यों न लगे

बाज़ी उल्टी पड़ जाती है
इक छोटी सी गलती से
सारा जीता खेल खिलाड़ी
हारा - हारा क्यों न लगे

पाल रहा है मन ही मन में
जाने कितनी आशाएँ
भूखे - प्यासे सा हर कोई
मारा - मारा क्यों न लगे

" प्राण " अँधेरी रात , घनेरे
बादल , तूफां और बिजली
मन का दरपन पल ही पल में
पारा - पारा क्यों न लगे
-------------

टिप्पणी पोस्ट करें

7 टिप्पणियां

  1. बेहद खूबसूरत ख्यालों से सजी उम्दा ग़ज़ल!

    जवाब देंहटाएं
  2. " प्राण " अँधेरी रात , घनेरे
    बादल , तूफां और बिजली
    मन का दरपन पल ही पल में
    पारा - पारा क्यों न लगे

    -वाह! शानदार!!

    जवाब देंहटाएं
  3. बाज़ी उल्टी पड़ जाती है
    इक छोटी सी गलती से
    सारा जीता खेल खिलाड़ी
    हारा - हारा क्यों न लगे
    ---- lazvab prstuti
    sahityasurbhi.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  4. Behad anuchuye ahsaas shabdon mein piroar pesh karna..Waah
    bahut hi navneetam dohra kafia khara-khara
    bahut hi accha laga raha hai

    जवाब देंहटाएं
  5. आदरणीय प्राण शर्मा जी
    को पढ़ने का अवसर देने के लिए हार्दिक आभार !

    ग़ज़ल बहुत अच्छी है…
    हर शे'र काबिले-ता'रीफ़ है -


    लाखों और करोड़ों में भी
    न्यारा - न्यारा क्यों न लगे
    सबको अपना - अपना बच्चा
    आंख का तारा क्यों न लगे


    आपके प्रति हार्दिक आभार इस ग़ज़ल के प्रस्तुतिकरण के लिए …
    बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    जवाब देंहटाएं
  6. bahut sunder likha hai .uttam gazal .aapki gazlen jahan milti hain padhti hoon.
    saader
    rachana

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...