HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

मन करता है [फुलवारी] - कमलेश भटट 'कमल {बाल शिल्पी अंक 15} प्रस्तुति - डॉ. मो. अरशद खान


प्यारे बच्चों,
"बाल-शिल्पी" पर आज आपके डॉ. मो. अरशद खान अंकल आपको "फुलवारी" के अंतर्गत कमलेश भटट 'कमल अंकल की कविता "बडा मजा आता" पढवा रहे हैं। तो आनंद उठाईये इस अंक का और अपनी टिप्पणी से हमें बतायें कि यह अंक आपको कैसा लगा।

- साहित्य शिल्पी
====================

मन करता है किसी रात में
चुपके से उड़ जाऊं,
आसमान की सैर करूं फिर
तारों के घर जाऊं।

देखूं कितना बड़ा गांव है
कितनी खेती बारी,
माटी-धूल वहां भी है कुछ
या केवल चिंगारी।

चंदा के संग क्या रिश्ता है
सूरज से क्या नाता,
भूले-भटके भी कोर्इ क्यों
नहीं धरा पर आता।

चांदी जैसी चमक-धमक, फिर
क्यों इतना शरमाते,
रात-रात भर जागा  करते
सुबह कहां सो जाते ?

कमलेश भटट 'कमल, गाजियाबाद,(0प्र0)

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...