HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

राज़ दिल में छिपाए है वो किस क़दर [ग़ज़ल] - देवी नागरानी

राज़ दिल में छिपाए है वो किस क़दर
सारी ख़ामोशियों की हदें पार कर.

यूँ तो जीते रहे रोज़ मर मर के हम
कर रहे हैं अभी एक गिनती मगर

मुस्कराता था वो ऐसे अँदाज़ से
जैसे ज़ख़्मों से उसका भरा हो जिगर.

कितने रौशन सभी के है चेहरे यहां
मन में उनके बसा है अंधेरा मगर

ज़िंदगी ने मुझे है बहुत जी लिया
सीख पाई न उससे कभी ये हुनर.

दीन ईमान दुनियां में जाने कहां
पांव इक है इधर, दूसरा है उधर.

तीर शब्दों के ऐसे निकलते रहे
छेदते ही रहे जो हमारा जिगर.

ज़िंदगी को कभी भी न समझे थे हम
ख़्वाब थी, ख़्वाब ही में गई वो गुज़र.

डर की आहट न देवी कभी सुन सकी
सामने मौत आई तो देखा था डर.
रचनाकार परिचय:-
11 मई 1949 को कराची (पाकिस्तान) में जन्मीं देवी नागरानी हिन्दी साहित्य जगत में एक सुपरिचित नाम हैं। आप की अब तक प्रकाशित पुस्तकों में "ग़म में भीगी खुशी" (सिंधी गज़ल संग्रह 2004), "उड़ जा पँछी" (सिंधी भजन संग्रह 2007) और "चराग़े-दिल" (हिंदी गज़ल संग्रह 2007) शामिल हैं। इसके अतिरिक्त कई कहानियाँ, गज़लें, गीत आदि राष्ट्रीय स्तर के पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे हैं। आप वर्तमान में न्यू जर्सी (यू.एस.ए.) में एक शिक्षिका के तौर पर कार्यरत हैं।.....

टिप्पणी पोस्ट करें

3 टिप्पणियां

  1. ज़िंदगी को कभी भी न समझे थे हम
    ख़्वाब थी, ख़्वाब ही में गई वो गुज़र.

    डर की आहट न देवी कभी सुन सकी
    सामने मौत आई तो देखा था डर.
    bahut khub
    suder gazal
    badhai
    saader
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  2. Abhishek V rachna ji
    aapka abhaar samay nikal kar sahity shilpi par is ghazal par aapni ray dene ke liye

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...