HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

याद की बज़्म सजी दिल में सितारों की तरह [ग़ज़ल] - देवी नागरानी


याद की बज़्म सजी दिल में सितारों की तरह
फिर से महसूस ख़लिश दिल ने की ख़ारो की तरह

दूर वो हो गया अब हम से दरारों की तरह
उससे मुश्किल है मुलाकात किनारों की तरह

बेरुख़ी उसकी है, गोया कोई पतझड़ की हवा
मेरे अरमान हैं अब उड़ते गुब्बारों की तरह

आइना सामने था और मुक़ाबिल मैं थी
अक्स था जैसे बियाबानों के नज़ारों की तरह

कितना नटखट है मुक़द्दर ये , है कितना चंचल
खेलता आँख मिचौली है वो तारों की तरह

जाने क्या बात है क्यों रूठ गया है मौसम
साथ हंसता था मेरे वो भी बहारों की तरह
==========


टिप्पणी पोस्ट करें

8 टिप्पणियां

  1. नागरानी जी की हमेशा की तरह एक और सुन्दर ग़ज़ल -

    जाने क्या बात है क्यों रूठ गया है मौसम
    साथ हंसता था मेरे वो भी बहारों की तरह

    जवाब देंहटाएं
  2. जाने क्या बात है क्यों रूठ गया है मौसम
    साथ हंसता था मेरे वो भी बहारों की तरह
    akharee pangatee dil ko chhu lene valee hai...

    जवाब देंहटाएं
  3. दूर वो हो गया अब हम से दरारों की तरह
    उससे मुश्किल है मुलाकात किनारों की तरह

    मन को छू गयी बात।

    जवाब देंहटाएं
  4. नागरानी जी
    अच्छी गज़ल के लिये बधाई
    प्रभुदयाल श्रीवास्तव‌

    जवाब देंहटाएं
  5. door ab ho gaya vo hamase dararon ki tarah
    us se mushkil hai mulakat kinaron ki tarah.
    ek achchhi ghazal ka bahut achchha sher. bahut bahut badhai ho Devi Nagrani ji

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...