HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

क्या याद करोगे तुम मुझको [कविता] - शशि पाधा


जब गरज - गरज घन बरसेंगे
और देख घटा की अलक श्यामली
विरही नयना तरसेंगे
क्या याद करोगे तुम मुझको ?

जब लहरें चन्दा चूमेंगी
और नभ की गलियों में चंचल
कोई पवन बाँवरी झूमेगी

जब पुरवा आकर छेड़ेगी
और भीनी-भीनी यादों की
कोई खुशबू तन -मन घेरेगी
क्या याद करोगे तुम मुझको ?

जब पर्वत से कोई नदी ढले
और दूर किनारे सागर के
नयनों में कोई दीप जले

जब ओस कणों की बूंद झरे
और कुँकुम रोली अँजुरी भर
प्राची में कोई माँग भरे
क्या याद करोगे तुम मुझको?

जब महुआ अँगना डोलेगा
और साँझ के पैरों में बंध कर
कोई घुँघरू छन - छन बोलेगा

जब रात चाँदनी घोलेगी
और रजनी गंधा झुकी- झुकी
घूँघट अपना खोलेगी
क्या याद करोगे तुम मुझको ?

टिप्पणी पोस्ट करें

8 टिप्पणियां

  1. जब पुरवा आकर छेड़ेगी
    और भीनी-भीनी यादों की
    कोई खुशबू तन -मन घेरेगी
    क्या याद करोगे तुम मुझको ?

    बड़ा ही मीठा गीत है।

    जवाब देंहटाएं
  2. जब रात चाँदनी घोलेगी
    और रजनी गंधा झुकी- झुकी
    घूँघट अपना खोलेगी
    क्या याद करोगे तुम मुझको ?
    sunder bhav prem ras ki sunder kavita
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  3. shashi ji aapki har rachna bahut madhur aur rash bahri hoti hai.prkriti aur prem ko bahut sunderta se mithai ki bhanti parosati hain aap. man gad gad ho jata hai. bahut hi meetha geet hai badhai,
    saadar,
    amita kaundal

    जवाब देंहटाएं
  4. इस रचना को सराहने के लिए आप सब का हार्दिक धन्यवाद |

    शशि पाधा

    जवाब देंहटाएं
  5. शशी जी मधुर गी्त सही मायने मै दिल प्रसन्न हो गया.बधाई..

    जवाब देंहटाएं
  6. धन्यवाद आपका शरद जी ,
    शशि पाधा

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...