HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

हाईकू [हल्बी बोली में] - शकुंतला तरार


1
बस्तर मचो
सरन आया बूबा
दंतेसरी जै

2
मांडी टेकून
डंडा सरन लागें
बला देवता


सहरे लोग
बलतो आरू करतो
काय बलासे

4
लूगा घेनुक
सीखली एदाय रे
नोनी बेलोसा
5
खमोरी होली
एदाय दसराहा
सरकार चो

6
दंतेसरी जै
बुतली काय साद
दसराहा चो

7
काय सान्गेंदें
टोंड़े हाड़ा नी आय
इथा चो लोग

8
माटी चो देहें
मिसुन जाऊ आय
माटी चे ठाने

9
मनुख मारा
मनुख ले आगर
केभय नांई

10
मनुख चेते
जाले काय काजे
मनुख मारा

एक टिप्पणी भेजें

4 टिप्पणियाँ

  1. hindi ke pathko ke liye anuvad bhi hona chahiye.

    जवाब देंहटाएं
  2. सकुन्तला जी हल्बी मै हाईकू पड अच्च्हा लगा बधाइ.

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रिय पाठकों , नमस्कार
    आपने हल्बी हाइकु पसंद किया इसके लिए धन्यवाद,
    भविष्य में मैं अनुवाद सहित या कुछ कठिन शब्दों के अर्थ साथ में लिखकर दूंगी .

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...