HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

खेल [ग़ज़ल] - गौरव शुक्ला


फूलों का खेल है कभी पत्थर का खेल है
इन्सान की जिन्दगी तो मुकद्दर का खेल है

बहला के अपने पास बुला कर, फरेब से
नदिया को लूटना तो समन्दर का खेल है

हम जिसको ढूँढते हैं जमाने में उम्र भर
वो जिन्दगी तो अपने ही अन्दर का खेल है

हर लम्हा हौसलों के मुकाबिल हैं हादसे
दोनों के दरमियान बराबर का खेल है

कहते हैं जिसको लोग धनक,और कुछ नहीं
अश्कों से लिपटी धूप की चादर का खेल है

दुनिया जिसे पुकारती है घर के नाम से
सच पूछिये तो नींव के पत्थर का खेल है
रचनाकार परिचय:-


गौरव शुक्ला कुछ समय पूर्व तक कवि और पाठक दोनों ही के रूप में अंतर्जाल पर बहुत सक्रिय रहे हैं।

अपनी सुंदर और भावपूर्ण कविताओं, गीतों और गज़लों के लिये पहचाने जाने वाले गौरव को अपने कुछ व्यक्तिगत कारणों से अंतर्जाल से दूर रहना पड़ा। साहित्य शिल्पी के माध्यम से एक बार फिर आपकी रचनायें अंतर्जाल पर आ रही हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां

  1. हम जिसको ढूँढते हैं जमाने में उम्र भर
    वो जिन्दगी तो अपने ही अन्दर का खेल है

    जिंदगी के फलसफे को
    सलीक़े से समझाता हुआ
    उम्दा शेर ....

    एक बहुत अच्छी ग़ज़ल के लिए
    गौरव जी को बधाई . .

    "दानिश"

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...