HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

अनुरोध / महेंद्रभटनागर

परिपक्व आम्र हूँ —
तीव्र पवन के झोंकों से
कब गिर जाऊँ!


आतुर है
धरती की कोख

प्रसविनी,
शायद —
जीवन फिर पाऊँ!




आया तो
और मधुर रस दूंगा,
बरस-बरस दूंगा!



अपने प्रिय सपनों में
रखना मुझे सुरक्षित,
भूली-बिसरी यादों में
चिर-संचित!

टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...