IMAGE1
स्कुल की जब होती छुट्टी 
ऐसा लगता मानों बगीचे में उड़ रही हों 
रंग-बिरंगी तितलियाँ ... 
तुतलाहट भरी मीठी बोली से 
पुकारती अपने पापा को 
पापा ...


 संजय वर्मा रचनाकार परिचय:-


संजय वर्मा "दृष्टि" २-५-१९६२ को उज्जैन में जन्मे लेखक है। कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में इनके पत्र और रचनाएँ नियमित रूप से प्रकाशित होती रहती हैं। आप आकाशवाणी से भी काव्य पाठ कर चुके हैं। इन्हें कई सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है
इतनी सारी नन्ही रंग -बिरंगी तितलियों में 
ढूँढने लग जाती पिता की आँखें
मिलने पर उठा लेते मुझको वे गोद में 
तब ऐसा महसूस होता है 
मानो दुनिया जीत ली हो 
इस तरह रोज जीत लेते हैं मेरे पापा दुनिया। 

मेरी हर जिद को पूरी करते है पापा 
मैं जिद्दी भी इतनी नहीं हूँ 
किन्तु जब मैं रोती हूँ तो 
पापा की आँखें रोती हैँ। 
सच कहूँ, यदि मैं नहीं होती तो 
मेरे पापा क्या जी पाते मेरे बिना...
सोचती हूँ बेटियाँ नहीं होती तो 
उनके पापा कैसे जीते होंगे
बेटी के बिना!!!

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget