HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड हैं [बाल कविता] - प्रभुदयाल श्रीवास्तव


चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड है,
बी ए. पास बी एड. ट्रेंड है

हर दिन लाँग ड्राइव पर जाती,
अपने खुद को खुद ही चलाती
शक्कर गुड जैसे भोजन को,
अपने सिर पर रख ले आती
करती है दिन रात परिश्रम,
नहीं काम का कभी एंड है
चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड है

चलती है तो चलती जाती,
बिना रुके ही बढ़ती जाती
थकने का तो नाम ना लेती,
जब तक मंजिल ना मिलजाती
दृढ़ इच्छा के एयर पोर्ट पर,
करती श्रम का प्लेन लेंड है
चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड है

है कतार में बढ़तीजाती,
गिर जाती तो उठकर आती
अगर कहीं व्यवधान हुआ तो,
काट काट चक्कर आ जाती
शिक्षा देती है हम सबको,
श्रम का हर दम अपर हैंड है
चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड है

उठो और चल पड़ो बात यह,
कही विवेकानंदों ने है
लंगड़ों ने  पर्वत लांघे हैं,
नदी पार की अंधों ने है
हर चीटी ने इसी बात का,
हमें किया ई मेल सेंड है

चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड है

टिप्पणी पोस्ट करें

3 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...