शहीद-ए-आज़म भगतसिंह की शहादत को साहित्यशिल्पी परिवार स्मरण करते हुए नतमस्तक है।  आज प्रस्तुत है साहित्य शिल्पी पर विभिन्न समयों में प्रकाशित भगतसिंह पर केन्द्रित अनेक रचनाओं का संकलन जिसे नीचे दी गयी कडियों पर जा कर पढा जा सकता है -  

अ)     भगत सिंह की शहादत से सम्बन्धित स्वतंत्रता पूर्व की संकलित रचनायें  - http://www.sahityashilpi.com/2008/09/blog-post_28.html

आ)   भगत सिंह के जीवन और कार्यों पर अभिषेक सागर का आलेख - http://www.sahityashilpi.com/2009/03/blog-post_23.html

इ)      एक मर्म स्पर्शी पंजीबी कविता “वह शहीद नहीं था” जिसके मूल कवि हैं सुरजीत पातर एवं रचना का हिन्दी में अनुवाद किया है मनोज शर्मा ने - http://www.sahityashilpi.com/2009/09/blog-post_28.html


ई)      राजीव रंजन प्रसाद की कविता “तुम कौन थे भगत सिंह” - http://www.sahityashilpi.com/2009/03/blog-post_9024.html

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget