HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

मराठी आदिवासी कवि डॉ. गोविंद गोरे की कविता का अनुवाद [अनुवाद साहित्य]



वे मनुष्य ही थे...
---------- 

झुंड-झुंड में चलानेवाले
बारीक पतले देह के
तेल लगे काले रंग के
अधनंगे, खुले बदन, तोतले से
झुर्रियों वाले खामोश चेहरे के
पेट अंदर गये हुए
खोपड़ी में सिर अटके हुए
सिर पर उनके घगरी-मटके
शरीर कंधों पर बाल-बच्चे
संघर्ष करते निकाल पड़े, जीने के लिए
वे मनुष्य ही थे

(कविता संग्रह - अनुभूती - 1994)
अनुवादक - नितिन पाटिल


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...