HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

बचा है अब यही इक रास्ता क्या [ग़ज़ल] - वीनस केसरी

mere-hawale-qatil-shifai
बचा है अब यही इक रास्ता क्या
मुझे भी भेज दोगे करबला क्या

तराजू ले के कल आया था बन्दर
तुम्हारा मस्अला हल हो गया क्या

Venus Kesariरचनाकार परिचय:-


पेशे से पुस्तक व्यवसायी तथा इलाहाबाद से प्रकाशित त्रैमासिक ’गुफ़्तगू’ के उप-संपादक वीनस केसरी की कई रचनाएं विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं। आकाशवाणी इलाहाबाद से आपकी ग़ज़लों का प्रसारण भी हुआ है। आपकी एक पुस्तक “इल्म-ए-अरूज़” प्रकाशनाधीन है।

अचानक क्यों हुए हैं पानी पानी
हवा ने बादलों से कुछ कहा क्या

यहाँ पत्थर भी शीशा हो गया है
यहाँ से बन्द है हर रास्ता क्या

उदू से दफ्अतन मैं पूछ बैठा
हमारे दरमियाँ है मस्अला क्या

ग़ज़ल में रंग भरना है जरूरी
मगर सादा न हो तो फ़ायदा क्या

ग़ज़ल कह कर हुआ दीवाना मैं तो
ग़ज़ल सुन कर तुम्हें भी कुछ हुआ क्या

ए 'वीनस' काश मैं यह जान पाता
था रखना याद क्या, था भूलना क्या

टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...