HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

उदारदिल कौन [लघुकथा] - रचना व्यास

IMAGE1
किशोरवय नीरज ने चहकते हुए माँ से पूछा "माँ मेरे जन्म पर दादी ने सारे शहर में लड्डू बटवाए थे ना और दादाजी ने किन्नरों को इक्यावन हजार नकद व सोने की चेन दी थी |

रचना व्यासरचनाकार परिचय:-



रचना व्यास मूलत: राजस्थान की निवासी हैं। आपने साहित्य और दर्शनशास्त्र में परास्नातक करने के साथ साथ कानून से स्नातक और व्यासायिक प्रबंधन में परास्नातक की उपाधि भी प्राप्त की है।

ताईजी कह रही थी कि ताउजी ने नाइन को सोने की अंगूठी दी थी और पिताजी ने तो वार -फेर में ही पूरे बीस हजार खर्च कर दिए | " इन बातों पर इठलाता हुआ नीरज पूछने लगा "माँ , सबसे ज्यादा उदारदिल कौन है ?" "बेटा ! तुम मेरे विवाह के पांच साल बाद हुए , यदि तुम्हारे नाना मेरी माँ के गहने गिरवी रखकर मेरा इलाज न करवाते तो मैं आज इस घर में नहीं होती | " उसने बुदबुदाते हुए आँखे पोंछ ली |

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...