HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

मोबिल में लिपटा काला लड़का [कविता] - सुशील कुमार


टायरों की जली काली मिट्टी से सना
मोबिल में लिपटा काला लड़का 
जब हँसता है तो 
पूरी दुनिया 
उसकी सफेद दूधिया दाँतों में फँस जाती है l 

रात है गहरी -
छोटी सी दुनिया में मस्त ये छौरे
गैराज में छितरा रहे इधर-उधर -
पसर रहे गमछे बिछा
अपने बटुए टटोलते
पेट में पैर डाल
आधी नींद में
अगले बस कार ट्रक की प्रतीक्षा में

सपनों में भागते सुख
का पीछा करती
रोज़ कितनी ही जोख़िम भरी रातें
इन बच्चों की
यूँ ही कट रही गैराज में
टायरों स्क्रू पेंचकश डीजल मोबिल के बीच
सोते-जागते, खाँसते-कुहरते
बीमारियों से लड़ते
मौत के साये में जैसे-तैसे पलते-बढ़ते।

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

  1. गरीबी और बाल श्रम पर प्रहार करती ये कविता यतार्थ के बहुत करीब है ....सुशील जी को बधाई और शुभकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...