HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

नहीं करते [ग़ज़ल] - प्राण शर्मा

IMAGE1
हर किसी की बातों में आया नहीं करते
खामखा ही ख़ुद को उलझाया नहीं करते


प्राण शर्मा रचनाकार परिचय:-



प्राण शर्मा वरिष्ठ लेखक और प्रसिद्ध शायर हैं और इन दिनों ब्रिटेन में अवस्थित हैं। आप ग़ज़ल के जाने मानें उस्तादों में गिने जाते हैं।

आप के "गज़ल कहता हूँ' और 'सुराही' काव्य संग्रह प्रकाशित हैं, साथ ही साथ अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।

साथ मिल कर जो भी मुस्काया नहीं करते
वो किसी की आँखों को भाया नहीं करते

माना , कुछ बातों पे शरमाना ही पड़ता है
साधु की बातों पे शरमाया नहीं करते

हर किसी से प्यार की ठंडक नहीं मुमकिन
सब शज़र ऐ दोस्तो छाया नहीं करते

आप जैसे थे , रहो वैसे तो अच्छा है
घर बदलने से बदल जाया नहीं करते

कल ही तो वादा किया था आपने हम से
एक दिन में ही मुकर जाया नहीं करते

सोचिये के दिल पे गुज़रेगी किसी के क्या
साथ तज के गुस्से में जाया नहीं करते

टिप्पणी पोस्ट करें

3 टिप्पणियां

  1. बढ़िया ग़ज़ल. इसे पढ़कर एक पुराना गीत याद आ गया 'ख्यालों में किसी के इस तरह आया नहीं करते'

    जवाब देंहटाएं
  2. हर किसी से प्यार की ठंडक नहीं मुमकिन
    सब शज़र ऐ दोस्तो छाया नहीं करते
    ज़मीनी हकीकत से भरा शेर ... बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल है प्राण साहब की ... हमेशा की तरह ताज़ा झोंके जैसे ...

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...