HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

बेटियां होगी सुरक्षित [कविता] - संजय वर्मा "दृष्टि"

IMAGE1
एक अख़बार में निविदा विज्ञापन
दहेज़ के दानव के विनाश हेतु
चाहिए एक बाण
ऐसी निविदा पढने के बाद
दिल को हुआ आराम ।



 संजय वर्मा रचनाकार परिचय:-


संजय वर्मा "दृष्टि" २-५-१९६२ को उज्जैन में जन्मे लेखक है। कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में इनके पत्र और रचनाएँ नियमित रूप से प्रकाशित होती रहती हैं। आप आकाशवाणी से भी काव्य पाठ कर चुके हैं। इन्हें कई सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है
वर्तमान परिदृश्य में
बहुए जली /जलाई जा रही
ऐसे हादसों के कारण गावों के
कुएं की चरखियां ,घट्टीयों की आवाजें
ख़त्म होती जा रही ।

बाजारों में फ्रेमों के और कब्र के पत्थरों के
दाम यकायक बढ़ते जा रहे
सुने घर और आँचल में केसे छुपे बच्चे
छुपा- छाई का खेल वो खोते जा रहे
रिश्तों में कड़वाहट /लालची युग का
विष घुलता जा रहा ।

लगने लगा जेसे दहेज़ के लालची
दानवों का दायरा बढ़ता जा रहा
बढ़ते हुए दायरों को न रोक पाने का
कारण यह भी हो सकता है
कलयुग में बाण चलाना आता नहीं
या लोग डरपोक बन भागते जा रहे ।

निविदा की तिथिया बढती जा रही
अब संशोधनों के साथ
दहेज़ के दानवों के विनाश हेतु
चाहिए अब तरकशो से भरे बाण

इंतजार है ,कोई तो आएगा खरीदने
तभी ख़त्म हो सकेगी
दहेज़ के दानवों की विनाशलीला
और बेटियां होगी हर घरों में
सुरक्षित ।

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...