IMAGE1
विजयलक्ष्मी विभा
मन रे तू भी हो जा योगी ।
दे संदेश जगत को ऐसा , रहे न कोई रोगी ।।
माला जपे न करे तपस्या , बने न यह जग ढोंगी ।
केवल प्राणायाम करे नित , हो तेरा सहयोगी ।।
जो चाहेगा तुझे मिलेगा , चाहत पूरी होगी ।
सतगुरु दे यह सीख जगत को , योगी हो हर भोगी ।।
चलो विभा कर लो योगासन , हरदम स्वस्थ रहोगी ,
मन योगी हो जाये , सत्वर , प्रभु के चरण गहोगी ।।


विजयलक्ष्मी विभारचनाकार परिचय:-



विजयलक्ष्मी विभा

----------------------------------विजयलक्ष्मी विभा --------
--------- मन रे योग बडा गुणकारी -------
-----------------------------------------------------

विजयलक्ष्मी विभा
मन रे योग बडा गुणकारी ।
तू अपना ले इसको तो हो , कभी न तेरी हारी ।।
देता यह सबको नव जीवन , जन-जन का हितकारी ।
लाभ प्राप्त करते हैं इससे , रोगी और व्यभिचारी ।।
शरण चला जा तू सतगुरु की , जो हो यों उपकारी ।
बिना दक्षिणा माँगे देवें , तुझको विद्या सारी ।।
संयम - नियम , धर्म की देवें , शिक्षा बारी -बारी ।
सांस-सांस में लिख दें जग की , प्रभु की महिमा न्यारी ।।
जब तक जग में रहे विभा तू , जीवन जी सुखकारी ,
सतगुरु जब आलोक बिछायें , धो ले सब अँधियारी ।।

-----------------------------------------------------------------
विजयलक्ष्मी विभा
-----कर ले प्राणायाम----
------------------------------

विजयलक्ष्मी विभा
भाई रे , कर ले प्राणायाम ।
हर दुख का उपचार यही है , यही अनौखा बाम । ।
मत दे दोष जगत को पगले , कर न इसे बदनाम ।
दुख ही दुख मिलते गर तुझको , है तू ही नाकाम । ।
बैठे- बैठे जीना चाहे , करे न कोई काम ।
कैसे चले यंत्र इस तन का , करे न तू व्यायाम ।।
राग द्वेष , आलस से होगा , तेरा काम तमाम ।
बिन बरखा बादल छायेंगे , होगी दिन में शाम ।।
चल दे तू सतगुरु के पथ पर , जा उनके ही धाम ।
विभा बतायेंगे वे तुझको , कहाँ मिलेंगे राम ।।

-------------------------------------------------------
विजयलक्ष्मी विभा
----------देख रे मन अपना दर्पन --------
-------------------------------------------------

विजयलक्ष्मी विभा
देख रे मन अपना दर्पन ।
धूल चढी जो इसे साफ कर , हो प्रभु का दर्शन ।।
जिस तन के भीतर तू रहता , उसमें लगे व्यसन ।
इन्हें दूर करने को जग का , काम न आये धन । ।
पा जायेगा मुक्ति जगत से , करले ले योगासन ।
तेरे साथ चलेगा तेरा , यद्यपि लघु है तन ।।
विलोमनुलोम कपाल भारतीऔर मयूरासन ।
जो सिखलायें सतगुरु तुझको , सीख उसे रे मन ।।
सतगुरु देंगे तुझको उज्जवल ऐसा एक रतन ।
उनके पथ पर चले विभा तो, मिलें तुझे भगवन ।।

-----------------------------------------------------------
विजयलक्ष्मी विभा

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget