HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

किसान की पुकार [कविता] - रवि श्रीवास्तव

IMAGE1
चलो मै कायर ही सही,
आप की तरह लायर तो नही।


 रवि श्रीवास्तव रचनाकार परिचय:-



लेखक, कवि, व्यंगकार, कहानीकार, फिलहाल एक टीवी न्यूज ऐजेंसी से जुड़े हुए है।

वादों पर अपनी रहता हूं अड़ा
भाव यूरिया का कुछ ऐसे बढ़ा,
न देखी है धूप न ही छांव को,
कंधे पर फावड़ा हरपल साथ हो।

मेहनत में मेरे नही थी कोई कमी,
फसल को उगाने मे तैयार की जमीं।

धरती का सीना चीर कर अनाज उगाया,
फिर भी भर पेट खाना न खा पाया।

बैंक के लोन में दो पहले कमीशन,
तब जाकर मिलती है परमीशन।

एक दिन साथ मेरे खेतों में काम करो
फिर चाहे जितना मुझे कायर कहो।

कर्ज के बोझ कुछ लोगों ने
कदम गलत लिया उठा।
न निराशा हो वो, बड़ा दो उनका हौसला।

किसान हूं मैं कोई अरबपति तो नही
भूखें रहकर भी कटती है जिंदगी।

चलो मै कायर ही सही,
आप की तरह लायर तो नही।

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...