HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

दुनिया दिलों की राह में [गज़ल] - विश्वदीप "जीस्त"


दनुिया दिलों की राह में दीवार न हो जाये
याँ ख्वाब देख लेना भी आज़ार न हो जाये
 
चांदी की चमक मेरी सदाक़त को न खा जाये
मेरी भी क़लम उनका परस्तार न हो जाये

ओहदे की तख्तयों से है इंसान की पहचान
मैं डर रहा हूँ घर कहीं बाज़ार न हो जाये

अपने ग़रज़ के दायरे में क़ैद है हर शख्स
ये सारा शहर ही कहीं बीमार न हो जाये


दो दिन में मिटने लगती है अब रिश्तों की शिद्दत
इंसान का दिल भी कहीं अखबार न हो जाये


ऐ हुक्मरानों! ख़ूब ज़रूरी है एहतियात
जो सो रही है ख़ल्क़, वो बेदार न हो जाये


ऐ निगेहबान-ए-दश्त! ये रखना ज़रा ख्याल
मेरे लहू से दश्त भी गुलज़ार न हो जाये

तू 'ज़ीस्त'-ए-जावदां' से तो टकराने चला है
ऐ मौत! देख तेरी कहीं हार न हो जाये

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...