HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

खड़े हैं पेड़ [कविता] - अशोक बाबू माहौर

IMAGE1
खड़े हैं
मुँह बाँधे
निकालकर कंघी
लहराते,सँवारते
अपने आप को
पेड़

अशोक बाबू माहौररचनाकार परिचय:-

नाम- अशोक बाबू माहौर
जन्म-10/01/1985
साहित्य लेखन - विभिन्न साहित्यक विधाओं में संलग्न
प्रकाशन: रचनाकार,स्वर्गविभा,हिन्दीकुंज,अनहद कृति आदि हिंदी की साहित्यक पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित
सम्मान: ई-पत्रिका अनहद कृति की तरफ से 'विशेष मान्यता सम्मान २०१४-१५' से अलंकृत
संपर्क: ग्राम-कदमन का पुरा,तहसील-अम्बाह,जिला-मुरैना (मध्य प्रदेश)

अनगिनत नीम के
शीशम के
स्तम्भ से
सीना तान
बबूल के


मंद समीर
इर्द-गिर्द दौड़कर
उनकी पत्तियाँ गिनती
करती बातायन
सबसे

खंगालती जड़ें
मिटटी हिला डुला कर


बैठकर शिखर पर
पेड़ की टहनयों पर
घूमकर
रगड़कर खुद को
छालों की
चटाई पर

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...