HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

ठग्ग की भाषा [कविता]- सुशील कुमार शैली

IMAGE1
भागते हुये उस आदमी को मैं बाजू से पकड़ लेता हूँ

 सुशील कुमार शैली रचनाकार परिचय:-



सुशील कुमार शैली जन्म तिथि-02-02-1986 शिक्षा-एम्.ए(हिंदी साहित्य),एम्.फिल्,नेट| रचनात्मक कार्य-तल्खियाँ(पंजाबी कविता संग्रह), सारांश समय का,कविता अनवरत-1(सांझा संकलन)| कुम्भ,कलाकार,पंजाब सौरभ,शब्द सरोकार,परिकथा पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित सम्प्रति-सहायक प्राध्यापक,हिन्दी विभाग,एस.डी.कॅालेज,बरनाला पता-एफ.सी.आई.कॅालोनी,नया बस स्टैंड,करियाना भवन,नाभा,जिला-पटियाला(पंजाब)147201 मो.-9914418289 ई.मेल-shellynabha01@gmail.com

पूछता हूँ - क्या बात है ओ ! ठगते हो
गद्दे को घोड़ा कह कर
नसल और रफ़्तार की बात करते हो
ये जनता है पागलखाना नहीं
तुम्हारी बातों में हमने आना नहीं,
हम जानते हैं तुम व्यापार के धनी हो
भाषा में पारंगत व्यव्हार के सानी हो,

वो ऐंठता है, अक्क्ड़ता है, चिल्लाता है
झटके से मेरे हाथ को फेंकता है
क्या तुम्हारे बाप ने जहां हाईवे बनाया है
जहां घोड़े को गद्दा ही चलाता है
यही असूल है, यही नाता है
इसमें चलता न कोई बहाना है
जनता ! जनता का क्या है
वो तो फटा हुआ पजामा ( जुमला ) है
जिसको नहाना है, गाना है
भाषा की खाई में उतर जाना है,

बात इतनी ही होती है कि वो
मंच पर चढ़ जाता है
हँसता है, बतियाता है,
भाषा की चासनी से
नसल और रफ़्तार की गोलियां बांटता है
क्योंकि वो भीड़ में हवा का रुख जानता है
इसी लिए जनता की नबज़ को पहचानता है,

मैं देखता हूँ स्तब्ध
कि वो जनता के नाम पर
जनता से थूकवाता है
जनता से ही चटवाता है |

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...