HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

पीड़ा आई पीड़ा के मन [ गीत] - लाला जगदलपुरी


[लाला जगदलपुरी जी की जयंति 17 दिसम्बर से आरम्भ एक सप्ताह की विशेष श्रंखला के अंतर्गत आज प्रस्तुत है उनका रचित एक गीत।] 

विकल करवटें बदल-बदल कर
भोगा हमने बहुत जागरण,
’गहराई’ चुप बैठे सुनती
’सतह’ सुनाते जीवन-दर्शन ।

देव दनुज के संघर्षों का
हमने यह निष्कर्ष निकाला,
’नीलकण्ठ’ बनते विषपायी
जब-जब होता अमृत-मंथन ।

सफल साधना हुई भगीरथ
नयनों में गंगा लहराई,
साँठ-गाँठ में उलझ गए सुख,
पीड़ा आई पीड़ा के मन ।

ऐसे-ऐसे सन्दर्भों से
जुड़ जुड़ गई सर्जना अपनी,
हृदय कर रहा निन्दा जिनकी
मुँह करता है उनका कीर्तन ।

गूँज रही है बार-बार कुछ
ऐसी आवाज़ें मत पूछो;
नहीं सुनाई देता जिनमें

जीवन का कोई भी लक्षण ।
===== 

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...