HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

अहसास को अल्फाज़ के सांचे में [गज़ल] - चेतन आनंद

IMAGE1
ऐसा भी कोई तौर तरीका निकालिये।
अहसास को अल्फाज़ के सांचे में ढालिये।।




चेतन आनंद
रचनाकार परिचय:-



चेतन आनंद
426\S-1 शालीमार गार्डेन एक्स्टेशन .-1
साहिबाबाद , गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश )
फोन नं .:- 08586053956, 9711808485
ई मेल :- av.chetan2007@gmail.com

जकड़ा रहे जो रोज़ ही नफ़रत के जाल में,
ऐसा दिलो दिमाग़ में रिश्ता न पालिये।।

दीवार रच रही है बांटने की साजिशें,
उठिये कि घर संभालिये, आंगन संभालिये।।

सोया है गहरी नींद में बहरा ये आसमां,
तो चीखिये, आवाज़ के पत्थर उछालिये।।

फाक़ाकशी में भूख लगी तो यही किया,
हमने ये अश्क पी लिये, ये ग़म ही खा लिये।।

- चेतन आनंद

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

  1. दीवार रच रही है बांटने की साजिशें,
    उठिये कि घर संभालिये, आंगन संभालिये।।...

    वाह....

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...