IMAGE1





 वर्षा ठाकुर रचनाकार परिचय:-







नाम : वर्षा ठाकुर
शिक्षा: बी ई (इलेक्ट्रिकल)
पेशा: पी एस यू कंपनी में अधिकारी
मेरा ब्लौग: http://varsha-proudtobeindian.blogspot.in



रोज नयी सुबह के साथ
शुरू होती है
एक नयी कहानी
जो रात के साथ
खत्म भी हो जाती है
कभी नमक कम पड़ता है
कभी शक्कर ज्यादा
पर कहानी जरुर बनती है
पन्ना दर पन्ना
रात दर रात
नये किस्से बुनती
एक दिन ऎसे ही, जिन्दगी
पूर्णविराम ले लेती है
उपन्यास बन जाती है।

आप पूछते हैं , कहानी कहाँ है?
जी यहीं है, ओर किरदार भी
लम्हों की सियाही से
लिखते जा रहे हैं
अध्याय पर अध्याय
हर वो शख्स
जो छूता है मुझे
आँखों से, हाथों से
बातों से
बन जाता है, किरदार इसका।
आप भी तो हैं।

जब साँसें लगा दें
पूर्णविराम इसपर
हो जायेगी तैयार, ये भी
किसी अंधेरी दराज में
धूल खाने के लिये।




1 comments:

  1. वर्षा जी,
    आपकी ये पूर्णविराम कविता बहुत ही बढ़िया लगी. पूर्ण विराम का महत्त्व क्या हैं इससे पता चलता हैं.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget