HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

कसूर [कविता]- वर्षा ठाकुर

IMAGE1





 वर्षा ठाकुर रचनाकार परिचय:-







नाम : वर्षा ठाकुर
शिक्षा: बी ई (इलेक्ट्रिकल)
पेशा: पी एस यू कंपनी में अधिकारी
मेरा ब्लौग: http://varsha-proudtobeindian.blogspot.in



ऊपरवाले ने
दो आँखें दी
दोनोँ पहलू दिखाने के लिये
दो कान दिये
दोनोँ पक्ष सुनाने के लिये
मैंने वही देखा सुना
जो देखना सुनना चाहा
उसने वही देखा सुना
जो देखना सुनना चाहा
एक ही बात में, एक ही तथ्य में
मुझे भलाई दिख गयी
उसे बुराई दिख गयी
मैं खुश हुआ, वो रोया
मैंने पेड़े बाँटे, उसने बारूद
खून की नदियाँ बहीं
इस ओर बहीं, उस ओर बहीं
कसूर किसका था, पता नहीं
पर कुछ साबुत बचा नहीं
कुछ साबुत बचा नहीं।




टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां

  1. http://www.medicalant.com, List of Doctors, clinic centers, Doctors in India, Hospitals in India, Clinics in India, Diagnostics centers in India, Ambulance services, Emergency services @ medicalant.com

    जवाब देंहटाएं
  2. भगवान ने सब कुछ एकदम सही बनाया हैं इन्सान सिर्फ उसका सही से इस्तिमाल करे तो.

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...