HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

जायज़ [लघुकथा] - महावीर उत्तरांचली

IMAGE1
घटना नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की है।




 महावीर उत्तरांचली रचनाकार परिचय:-



१. पूरा नाम : महावीर उत्तरांचली
२. उपनाम : "उत्तरांचली"
३. २४ जुलाई १९७१
४. जन्मस्थान : दिल्ली
५. (1.) आग का दरिया (ग़ज़ल संग्रह, २००९) अमृत प्रकाशन से। (2.) तीन पीढ़ियां : तीन कथाकार (कथा संग्रह में प्रेमचंद, मोहन राकेश और महावीर उत्तरांचली की ४ — ४ कहानियां; संपादक : सुरंजन, २००७) मगध प्रकाशन से। (3.) आग यह बदलाव की (ग़ज़ल संग्रह, २०१३) उत्तरांचली साहित्य संस्थान से। (4.) मन में नाचे मोर है (जनक छंद, २०१३) उत्तरांचली साहित्य संस्थान से।

काफ़ी बहस के बाद कूली सौ रूपये में राज़ी हुआ तो मेरे 'साले' के चेहरे पर हर्ष की लहर दौड़ गई। एक छोटी-सी लोहे की ठेला-गाड़ी में कूली ने दो बक्से, चार सूटकेश और बिस्तरबंद बड़ी मुश्किल से व्यवस्थित किया और बताये गए स्थान पर चलने लगा।

"इस सामान का वज़न कराया है आपने?" सामने से आते एक निरीक्षक ने मेरे साले की तरफ़ प्रश्न उछाला।

"कहाँ से आ रहे हो?" दूसरा प्रश्न।

"कोटद्वार से ..."

"कहाँ जाओगे?" तीसरा प्रश्न।

"जोधपुर में मेरी पोस्टिंग हुई है। सामान सहित बाल-बच्चों को लेकर जा रहा हूँ।"

"निकालो पाँच सौ रूपये का नोट, वरना अभी सामान ज़ब्त करवाता हूँ।" हथेली पर खुजली करते हुए वह काले कोट वाला व्यक्ति बोला।

"अरे साहब एक सौ रूपये का नोट देकर चलता करो इन्हें ..." कूली ने अपना पसीना पोछते हुए बुलन्द आवाज़ में कहा, "ये इन लोगों का रोज़ का नाटक है।"

"नहीं भाई पुरे पाँच सौ लूँगा।" और कानून का भय देखते हुए उसने पाँच सौ रूपये झाड़ लिए और मुस्कुराकर चलता बना।

"साहब सौ रूपये उसके हाथ में रख देते, तो भी वह ख़ुशी-ख़ुशी चला जाता। उस हरामी को रेलवे जो सैलरी देती है, पूरी की पूरी बचती है। इनका गुज़ारा तो रोज़ाना भोले-भाले मुसाफ़िरों को ठगकर ऐसे ही चल जाता है।"

"अरे यार वह कानून का भय देखा रहा था। अड़ते तो ट्रैन छूट जाती।" मैंने कहा।

"अजी कानून नाम की कोई चीज़ हिन्दुस्तान में नहीं है। बस ग़रीबों को ही हर कोई दबाता है। जिनका पेट भरा है उन्हें सब सलाम ठोकर पैसा देते हैं!" कूली ने ग़ुस्से में भरकर कहा, "मैंने मेहनत के जायज़ पैसे मांगे थे और आप लोगों ने बहस करके मुझे सौ रूपये में राज़ी कर लिया जबकि उस हरामखोर को आपने खड़े-खड़े पाँच सौ का नोट दे दिया।"

कुली की बात पर हम सब शर्मिन्दा थे क्योंकि उसकी बात जायज़ थी।

टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां

  1. भले ही यह एक काल्पनिक कथा हो तथापि यह भारतीय समाज की चरित्रहीनता का प्रतिबिंबन करती है। उच्च आदर्शों वाली संस्कृति का दंभ रखने वाले भारतीय समाज का यही असली चरित्र है। यही कारण है कि देश अन्य देशों की तुलना में पीछे होते जा रहा है। प्रायः सभी सरकारी मुलाजिम पूरी बेशर्मी के साथ जहां से भी हो पैसा वसूलने मे लगे रहते हैं, चाहे सीधे या मातहतों के माध्यम से।

    जवाब देंहटाएं
  2. बिल्कुल सही हैं उस कुली का हर किसी ने जीवन में कभी न कभी कही न कही ऐसा जरुर किया होंगा, हम हमेशा कहते हैं की देश में भ्रष्टाचार बहुत बड गया लेकिन गौर से सोचे तो इस भ्रष्टाचार को बढ़ने के लिये कई न कई हम भी ज़िम्मेदार हैं.

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...