HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

सिवा तेरे जिंदगी में कोई भी गुहर न था [ग़ज़ल] - गुमनाम पिथौरागढ़ी

Ishq-Faiz

रचनाकार परिचय:-



नवीन विश्वकर्मा (गुमनाम पिथौरागढ़ी)
अखबार में कहीं जला कोई घर न था

पर बस्ती में सलामत कोई बशर न था



तू था जिंदगी का मेरे रतन एक कीमती

सिवा तेरे जिंदगी में कोई भी गुहर न था





मुझसे मिले सफर में थे ऐसे भी हमसफ़र

रहजन तो थे बहुत इक भी रहगुजर न था



इन सरहदों ने बाँट दिए देखो सबके दिल

इस बात का परिंदों पे कोई असर न था



कटती रही ये उम्र हो ज्यूँ रात पूस की

अफ़सोस याद की तेरी कोई शरर न था




वो ही मेरी शब सहर थी वो ही मेरी सांस थी

उसकी गली में फिर भी हमारा गुजर न था

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

  1. नविन विश्वकर्मा जी, "सिवा तेरे जिंदगी में कोई भी गुहर न था" दिलचप्स गझल

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...