HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल [मालवी कविता]- राजेश भंडारी “बाबु”

रचनाकाररचनाकार परिचय:-


राजेश भंडारी “बाबु”
१०४ महावीर नगर इंदौर
९००९५०२७३४
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल,
“जन धन” वाला हुवा हे माला माल ,
लखपति हुइग्या जो था कदी कंगाल ,
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
ठग्या सा दिखी रिया बेईमान ने नक्काल
सरकार भी चली री हे चाल पे चाल
रद्दी कागज़ वाई गयो करोडो को माल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
काला धन वाला की खेचाई गी हे खाल
फ़साने सरकार फेकी री जाल पे जाल
अच्छा अच्छा स्याणा का बुरा हुवा हे हाल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
बेईमान होण पानी पि पि के बके हे गाल
कानून बाची बाची के बुरा हुवा हे हाल
गुलाबी नोट दिखावे हे रोज नया कमाल ,
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
बेंक ने सरकार का खजाना हुवा गच
अबे नि कई तकलीफ ने मच मच
घुसखोर मेनेजर के जेल में दिया डाल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
बाई बेन होण को भी बुरो हुवो हे हाल
शरम का मारे हुई रिया हे गाल लाल
छिपाई छिपाई के राख्यो थो खजानों
सबके मालम पड़ने पे मची रयो बवाल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
मुफलिसी की जिन्दगी हुई हे उनकी आज
करोडो कीमत रखता जिनकी मुछ का बाल
दन निकालना मुश्किल पड़ी रिया जिनके
भारी पडेगो मुफलिसी को यो नवो साल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |




टिप्पणी पोस्ट करें

4 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...