HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

शोषण करती तोंदें [लोक- शैली ‘रसिया’ पर आधारित तेवरी] - रमेशराज

IMAGE1
रमेशराजरचनाकार परिचय:-


रमेशराज,
15/109, ईसानगर,
अलीगढ़-२०२००१

|| चार दिनों की है ||
………………………………………………………………………………
पूँजीवादी चैंटे, कुछ दिन खुश हो लें करकैंटे
जनवादी चिन्तन की खिल्ली चार दिनों की है।

राजनीति के हउआ, कुछ दिन मौज उड़ालें कउआ
सत्ता-मद में डूबी दिल्ली चार दिनों की है।

ओढ़े टाट-बुरादा, फिर भी ऐसे जिये न ज्यादा
गलती हुई बरफ की सिल्ली चार दिनों की है।

अब घूमेगा डंडा, इसकी पड़े पीठ पर कंडा
दूध-मलाई चरती बिल्ली चार दिनों की है।

कांपेंगे मुस्तंडे, अब अपने हाथों में डंडे
जन की चाँद नापती गिल्ली चार दिनों की है।

शोषण करती तोंदें , कल संभव है शोषित रौंदें
फूलते गुब्बारे की झिल्ली चार दिनों की है।

|| प्यारे देख जरा ||
……………………………………………………………………………

तेरे हाथ न रोटी, उत मुर्गा की टाँगें-बोटी
नेता उड़ा रहे रसगुल्ला, प्यारे देख जरा।

खड़ी सियासत नंगी, जिसकी हर चितवन बेढंगी
ये बेशर्मी खुल्लमखुल्ला, प्यारे देख जरा।

नेता करें सभाएँ, छल को नैतिक-धर्म बताएँ
इनके अपशब्दों का कुल्ला, प्यारे देख जरा।

गर्दन कसता फंदा, छीले सुख को दुःख का रंदा
सर पै रोज सियासी टुल्ला, प्यारे देख जरा।

नश्वर जगत बताकर, तेरे भीतर स्वर्ग जगाकर
लूटने जुटे पुजारी-मुल्ला, प्यारे देख जरा।
………………………………………………………………………………



टिप्पणी पोस्ट करें

4 टिप्पणियां

  1. रचना अपनी सार्थकता तब ओढ़ लेती है जब वह सीधे मुंह जनता से बात करे. कुछ ऐसा ही लिखा है जिसे बार-बार पढ़ने को जी चाहता है.

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय साहित्य शिल्पी में तेवरियाँ प्रकाशित कीं, हार्दिक आभार

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...