IMAGE1


 मनोरंजन कुमार तिवारी रचनाकार परिचय:-



नाम:- मनोरंजन कुमार तिवारी जन्म तिथि:- 06/01/1980 जन्म स्थान:- भदवर, जिला- बक्सर, बिहार पिता का नाम:- श्री कामेश्वर नाथ तिवारी गाँव:- भद्वर, जिला- बक्सर, बिहार वर्तमान पत्ता:- C/o- कर्ण सिंह, गाँव- घिटोरनी, नजदीक "तालाब",नई दिल्ही-30 मोबाइल न.- 9899018149 Email ID- manoranjan.tk@gmail.com


पता नहीं क्यों,
मगर जब भी, मेरे जीवन के,
भुली हुई स्मृतियों में से,
कोई बहुत ही सुन्दर सी, रोचक और प्यारी सी,
बात मेरे जेहन में आ जाती है,
तो उसे तुम्हे बताने की उत्कट अभिलाषा होती है,
जिसे सुन कर तुम्हारे होठों पर,
बिल्कुल बच्चों सी,
निश्छल, निर्मल मुस्कुराहट कौंध जाए,
मैं सोचता हूँ रात-रात भर,
ढुंढ़ता हूँ वो किस्से,
जिसे सुना कर तुम्हारे होठों पर,
उस उन्मुक्त मुस्कुराहट हो देख सकूँ,
जिसे देखने के लिए तरसता रहा हूँ हर पल।
पता नहीं क्यों,
मगर जब भी मेरे जीवन की,
गहरे दुख, पिडा, उदासी और निराशा
भरे लम्हे, मुझे असीम दर्द,
के गहराइयों में दुबोने लगते है,
तो वो बात तुम्हे बताने की,
बेचैनी सी हो जाती है,
पता नहीं क्यों मगर,
तुम्हारे आँखों में,
अपने लिए दर्द, सहानुभूति और फिक्र,
देखने की ललक सी लगी रहती है मन में।
पता नहीं क्यों मगर,
हजार परेशानियों के बीच भी,
तुम्हारे लिए परेशान होने को,
कुछ रह जाता है मन में,
और जब तक रात ढलने तक,
तुमसे बात ना कर लूँ,
हर पल लगता है,
कहीं परेशान होगी तुम,
कुछ बुरे से ख्वाब भी आते है,
की कहीं अकेले में बैठी रो रही हो तुम,
पता नहीं क्यों मगर,
ये सोच कर मन इतना व्यग्र हो जाता है की,
भूल जाता हूँ वो सब कुछ,
जो गुस्से में मैने कहा था,
तुमने कहा था,
भूल जाता हूँ वो सारे प्रण,
जो तुमसे बात ना करने के बारे में होता,
भूल जाता हूँ वो सारे वादे,
जो खुद से, और तुमसे किए होते है,
तुम्हे और ज्यादे परेशान ना करने के बारे में।
पता नहीं क्यों मगर,
जिन्दगी चल तो रही है बदस्तूर,
मगर जीने का एहसास नहीं होता तुम बिन।


2 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget