HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

तुम में ही डूबी रहना चाहती हूँ [कविता] -रितु रंजन प्रसाद



रचनाकार परिचय:-


रितु रंजन का जन्म 1.071980 को भागलपुर(बिहार)में हुआ। 

लेखन आपकी अभिरुचि है। घर के साहित्यिक माहौल नें आपको लिखने के लिये प्रेरित किया। 

अब ब्ळोगजगत में सक्रिय हैं।

तुम में ही डूबी रहना चाहती हूँ, बस कैसे भी
सागर के लिये नदी की चाह बरबस, कैसे भी।
तुम्हें ही देखना, तुम्हें ही चाहना,
तुम्हें ही सोचते रहना चाहती हूँ मैं,
स्वयं को भूल-भाल कर बस, कैसे भी।

पास रहो तुम मेरे बस ऐसे ही
जैसे चंदा के लिये अम्बर बिखर कर
फैलता है छोर से इस, छोर तक उस
इसीतरह तुम मत पूछो क्यों मेरे, बस ऐसे ही
तुम में ही डूबी रहना चाहती हूँ, बस कैसे भी।

valentine day special 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...