रचनाकाररचनाकार परिचय:-

श्वेता सिंह चौहान
सम्प्रति-अध्यापन और लेखन
प्रतिलिपी और हिंदीकुंज में अबतक 25 से ज्यादा कहानियाँ और कविताएँ प्रकाशित हो चुकी हैं।
ई मेल- shwetasinghchauhan379@gmail.com
नही छुपाना चाहती मैं
निशान अपनी उम्र का
मेरे बालों की सफेदी से
नहीं है मुझे कोई परेशानी
क्या फकॅ पड़ता है अगर मैं
दिखने लगू बूढ़ी
चाहे झुक जाए मेरी कमर
टूट जाए मेरे सब दाँत
मेरी ऑखों की रोशनी खो जाए
मेरी यादाश्त गुम हो जाए
भूल जाउ मै सारी दुनिया
तुम्हारा प्रेम मेरा रक्षक है
तुम्हारा होना रब का होना!
जैसे जीने के लिए जरूरी साँसें
मेरे लिए तेरा प्रेम है ऐसा
फिर भी मुझे यकीन है ऐसा
मेरे लिए प्रेम तुम्हारा
रहेगा पहले दिन के जैसा




1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget