HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

परदा [गज़ल]- देवी नागरानी



 देवी नागरानी रचनाकार परिचय:-






देवी नागरानी

480 वेस्ट सर्फ स्ट्रीट, एल्महर्स्ट, IL-60126




सानी नहीं है कोई भी उसके शबाब का
हर लफ़्ज़ बेमिसाल है उसकी किताब का

कलियां उदास-उदास हैं गुलशन में आजकल
चेहरा भी उतरा-उतरा है अब तो गुलाब का

पढ़ने को यूँ तो उनकी मिली नेक-नामियाँ
आया न हाथ कोई भी सफ़्आ सवाब का

माँगा हिसाब अपनी वफ़ाओं का जब कभी
ज़ालिम ने फाड़ डाला वो खाता हिसाब का

जो रोकती थी पाँव को ज़ंज़ीर अब कहाँ
परदा ही जैसे उठ गया रस्मे-हिजाब का


वो बन सँवर के आ गए ‘देवी’ जो सामने

उड़ने लगा है होश क्यों आखिर जनाब का





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...