HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

हाइकु [हाइकु]- महेन्द्र देवांगन "माटी"

रचनाकार परिचय:-


महेन्द्र देवांगन "माटी"
गोपीबंद पारा पंडरिया
जिला -- कबीरधाम (छ ग )
पिन - 491559
मो नं -- 8602407353
Email - mahendradewanganmati@gmail.com


(1) पेड़ लगाओ
फल फूल भी खाओ
मौज मनाओ ।

(2) चलते राही
छांव मिले न कहीं
कटते पेड़ ।

(3) जंगल साफ
माफियाओं का राज
आते न बाज ।

(4) टूटी है डाली
कैसे बचाये माली
क्यों देते गाली ।

(5) जल बचाओ
गली में न बहाओ
प्यास बुझाओ ।







टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां

  1. बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ !
    आभार। "एकलव्य"

    जवाब देंहटाएं
  2. जो नहीं सोचा इस बारे में ,
    तो होगा छल आगामी पीढ़ी के साथ ।

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...