HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

धर्मध्वज फहरा रहे हैं लोग [कविता]- बृज राज किशोर 'राहगीर'



रचनाकार परिचय:-



--बृज राज किशोर 'राहगीर'

पता: ईशा अपार्टमेंट, रूड़की रोड, मेरठ (उ.प्र.)
e mail:- brkishore@me.com


किस दिशा में जा रहे हैं लोग।


एक अच्छा सा मदारी
ढूँढते हैं
मानकर भगवान उसको
पूजते हैं


ख़ूब दिल बहला रहे हैं लोग।


एक रोटी जो किसी को
दे न पायें
किसी बाबा के लिए
सब कुछ लुटायें


धर्मध्वज फहरा रहे हैं लोग।


हर तरफ़ फैले हुए हैं
जाल भ्रम के
आइये, देंगे सभी कुछ
बिना श्रम के


आँख मूँदे आ रहे हैं लोग।


धर्म का चोला पहन
हिंसा कराना
देश के क़ानून को
ठेंगा दिखाना


सन्त यूँ कहला रहे हैं लोग।


--बृज राज किशोर 'राहगीर'

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...