HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

सोच [लघुकथा]- शबनम शर्मा

रचनाकाररचनाकार परिचय:-

शबनम शर्मा
अनमोल कुंज, पुलिस चैकी के पीछे, मेन बाजार, माजरा, तह. पांवटा साहिब, जिला सिरमौर, हि.प्र. – 173021 मोब. - 09816838909, 09638569237


रोहन मेरे पड़ोस में रहता है। मैं भी इस स्थान पर कुछ दिनों पहले ही आई हूँ। वह छोटा सा बालक मात्र 10-11 बरस का है। अकसर मुझे देखते ही मुस्कुरा देता। मुझे भी उसे देखकर अच्छा लगता। एक दिन साथ की पड़ोसन ने बताया कि ये बालक मात्र 5 बरस का था जब इसकी माँ चल बसी। अब यह सौतेली माँ के पास है, उसके भी 2 बच्चे और हैं। माँ-बाप दोनों इससे अच्छा व्यवहार नहीं करते। फिर भी यह हमेशा मुस्कुराता इनका सारा काम करता रहता है। एक दिन ज़ोरों की बारिश हो रही थी। मैं गलियारे में बैठी बारिश का मज़ा ले रही थी कि रोहन भी हमारे घर आ कर मेरे पीछे खड़ा हो गया। पानी से भीगा वह और भी सिकुड़ा सा लग रहा था। मुझे चाय पीने का बहाना मिल गया। मैं उसे अन्दर ले गई। तौलिये से उसका सिर पोंछा, उसे कुर्सी पर बिठाया और चाय बनाने लगी। इसी बीच मैंने पढ़ाई के बारे में उससे कुछ बातें पूछनी शुरु की। गज़ब के जवाब थे उसके। मेरा मन प्रसन्न हो गया। मैंने उसे शाबाशी दी और चाय बिस्कुट खाने का आग्रह किया। जैसे ही उसने चाय का कप उठाया, उसकी बाजू पर नीला गहरा निशान मुझे पसीज गया। ‘‘ये क्या हुआ?’’ वो चुप शान्त बैठा रहा। मैंने फिर पूछा, उसने जवाब दिया, ‘‘कल रात माँ की मदद कर रहा था, ठीक से काम न कर पाया, 2 रोटी मुझसे जल गई। माँ ने चिमटा मार दिया। बस ये ज़रा सी लग गई।’’ मेरे मुँह से चीख निकल गई, ‘‘जरा सी, ये जरा सी है। तेरे पापा ने कुछ नहीं कहा?’’ ‘‘वो क्या कहते, वो तो मुझे ही डाँटते। पर आँटी, एक बात बताऊँ, ये कोई बड़ी बात नहीं है। अगर आज मेरी माँ जिन्दा होती तो मैं बिगड़ जाता। ये दोनों सख्त हैं तो मैं अपनी कक्षा में प्रथम आता हूँ और कभी एक बड़ा अफसर बन ही जाऊँगा। फिर देखना................’’ कह कर वो तेज़ी से भाग गया और मैं उसकी बड़ी अनोखी सोच पर हाथ मलती रह गई।






टिप्पणी पोस्ट करें

3 टिप्पणियां

  1. लघुकथा के अंतिम वाक्य का "मैं उसकी बड़ी अनोखी सोच पर हाथ मलती रह गई।" कहानी-लेखिका का कथन मुझे खल रहा है।
    मेरी समझ में "हाथ मलना" निराशा, असंतोष, बेचारगी जैसे भावों को व्यक्त करता है"। लेखिका कदाचित संतोष, आशा अथवा प्रशंसा के भाव प्रकट करना चाहतीं हैं। वह कह सकती थीं, "उस बच्चे की बातें सुनकर मैं बोल उठी, ‘अरे, तुम तो बहुत समझदारी की बातें करते हो।’ या इसी प्रकार के कोई अन्य वचन।

    जवाब देंहटाएं
  2. बेहद मार्मिक रचना। हृदय को विचलित कर गई

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...