HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

जूता और बच्चा [कविता] - रमेशराज

रचनाकार परिचय:-


रमेशराज,
15/109, ईसानगर,
अलीगढ़-२०२००१

रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
--------------------------------------------------------------

-मुक्तछंद-

।। जूता और बच्चा ।।

जूते को लगातार चमकाता है
उसे आईना बनाता है
रंग और क्रीम के साथ
जूते पर पालिश
करता हुआ बच्चा।

बच्चा गुनगुनाता है
मीठी आवाज में फिल्मी गीत
जूते पर पड़ते हुए
टांकों के साथ
बच्चा करता है
चिलचिलाती धूप में
अपने अकेलेपन से बात।
जूते में छोटी-छोटी
टिकलियां टाकते हुए
सड़क की गर्म धूल फांकते हुए
बच्चा सर से एड़ी तक
पसीने से तर हो जाता है
जूते में खो जाता है
जूता बनाते हुए।

थके हुए हाथों की
उगलियां चटकाते हुए
बच्चा भविष्य की
कल्पनाएं बुनता है
अपने भीतर वसंत चुनता है
जूते पर आयी
चमक और पूर्णता के साथ।

ऐसे में हो जाते हैं
बौराए आम-से
बच्चे के जज्बात।
-रमेशराज

………………………………………………………………………………



टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

  1. वाह ! मन की गहराइयों में छिपे दर्द को क्या ख़ूब उकेरा है सराहनीय रचना आभार। "एकलव्य"

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...