HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

बच्चा, मालिक और पेट [कविता] - रमेशराज

रचनाकार परिचय:-


रमेशराज,
15/109, ईसानगर,
अलीगढ़-२०२००१

रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
--------------------------------------------------------------

-मुक्तछंद-

।। बच्चा, मालिक और पेट ।।

हथौड़ा चलता हुआ बच्चा
हांफ-हांफ जाता है
हर हथोड़े की चोट के साथ।

बच्चा अपने को पसीने से
तर-ब-तर पाता है
हर हथौड़े की चोट के साथ,
लोहा पीटते हुए
बच्चा होता है चूर-चूर
थकान से भरपूर।

बच्चे की हथेलियां
छालों से भर जाती हैं
उन पर ठेकें उग आती हैं |

बच्चा धोकनी चलाते हुए।
लोहा तपाते हुए
अपनी जिंदगी भी फूंकता है
लोहे की तरह दिन-रात
धोंकनी के साथ।

बच्चे को
सुखद अनुभूतियां देता है
नयी-नयी शक्ल में
बदलता हुआ सुर्ख लोहा
पिटने के बाद ठंडा होते हुए।

बच्चा बार-बार चिहक उठता है
पानी में गिरते ही
सुर्ख लोहे को छुन्न के साथ।

क्यों कि बच्चा जानता है
पिटे लोहे का ठन्डा होना
उसकी हथेली पर
ग्राहक की
चवन्नी-अठन्नी का उछलना है
उसके परिवार का पलना है।

-रमेशराज

………………………………………………………………………………



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...