HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ (भाग – 51 व 52)- [कहानियाँ]- राजीव रंजन प्रसाद

रचनाकार परिचय:-

राजीव रंजन प्रसाद

राजीव रंजन प्रसाद ने स्नात्कोत्तर (भूविज्ञान), एम.टेक (सुदूर संवेदन), पर्यावरण प्रबन्धन एवं सतत विकास में स्नात्कोत्तर डिप्लोमा की डिग्रियाँ हासिल की हैं। वर्तमान में वे एनएचडीसी की इन्दिरासागर परियोजना में प्रबन्धक (पर्यवरण) के पद पर कार्य कर रहे हैं व www.sahityashilpi.com के सम्पादक मंडली के सदस्य है।

राजीव, 1982 से लेखनरत हैं। इन्होंने कविता, कहानी, निबन्ध, रिपोर्ताज, यात्रावृतांत, समालोचना के अलावा नाटक लेखन भी किया है साथ ही अनेकों तकनीकी तथा साहित्यिक संग्रहों में रचना सहयोग प्रदान किया है। राजीव की रचनायें अनेकों पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं तथा आकाशवाणी जगदलपुर से प्रसारित हुई हैं। इन्होंने अव्यावसायिक लघु-पत्रिका "प्रतिध्वनि" का 1991 तक सम्पादन किया था। लेखक ने 1989-1992 तक ईप्टा से जुड कर बैलाडिला क्षेत्र में अनेकों नाटकों में अभिनय किया है। 1995 - 2001 के दौरान उनके निर्देशित चर्चित नाटकों में किसके हाँथ लगाम, खबरदार-एक दिन, और सुबह हो गयी, अश्वत्थामाओं के युग में आदि प्रमुख हैं।

राजीव की अब तक प्रकाशित पुस्तकें हैं - आमचो बस्तर (उपन्यास), ढोलकल (उपन्यास), बस्तर – 1857 (उपन्यास), बस्तर के जननायक (शोध आलेखों का संकलन), बस्तरनामा (शोध आलेखों का संकलन), मौन मगध में (यात्रा वृतांत), तू मछली को नहीं जानती (कविता संग्रह), प्रगतिशील कृषि के स्वर्णाक्षर (कृषि विषयक)। राजीव को महामहिम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी द्वारा कृति “मौन मगध में” के लिये इन्दिरागाँधी राजभाषा पुरस्कार (वर्ष 2014) प्राप्त हुआ है। अन्य पुरस्कारों/सम्मानों में संगवारी सम्मान (2013), प्रवक्ता सम्मान (2014), साहित्य सेवी सम्मान (2015), द्वितीय मिनीमाता सम्मान (2016) प्रमुख हैं।

==========
गोलकुण्डा की शह पर भेजी विद्रोह
बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ (भाग – 51)

इतिहास को जनश्रुतियों और लोकगीतों से भी खुरच कर निकाला जा सकता है। विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा के दौरान पोटानार (जगदलपुर) के ग्रामीण रथ के आगे नाचते गाते चलते हैं तथा अनेक ऐसे गीत गाते हैं जिनमे ऐतिहासिकता के पुट हैं। महाराजा प्रवीरचन्द्र भंजदेव अपनी कृति लौहण्डीगुडा तरंगिणी में इस अवसर पर गाये जाने वाले चूडामन गीत का उल्लेख करते है। यह गीत एक कथा पर आधारित है जो बस्तर में राजा वीरसिंह देव (1654-1680 ई.) के शासन समय को प्रस्तुत करता है। अपने दरबार में राजा वीरसिंह, दीवान चूडामन से प्रश्न करते हैं कि क्या राज्य के अंदर की सभी जमीदारियाँ मेरे शासन के प्रति वफादार हैं? दीवान उत्तर देते हैं कि भेजी जमीदारी को छोड कर अन्य सभी जमीदार राज्य शासन के लिये प्रतिबद्ध हैं। राजा को यह बात नागवार गुजरती है और वे भेजी के जमीदार का दमन करने के लिये दीवान को सेना ले कर जाने का आदेश देते हैं। इस कहानी में मोड़ तब आता है जब भेजी के निवासी जगराज और मतराज नाम के दो भाई चतुराई से सेना में प्रवेश कर जाते हैं तथा चूडामन का विश्वास अर्जित कर लेते हैं। वे बाध्य करते हैं कि वन्य मार्ग में उनके मनचाहे तथा पूर्वनियोजित स्थान पर शिविर लगाया जाये। शिविर लगाया जाता है जिसपर रात में भेजी के सैनिक हमला कर देते हैं। अफरातफरी का वातावरण निर्मित हो जाता है तथा राजा की सेना को बाध्य हो कर पीछे हटना पडता है।

इस गीत में अंतर्निहित कहानी को तत्कालीन राजनैतिक परिस्थितियों के सामने रख कर देखना चाहिये। भेजी का विद्रोह वस्तुत: गोलकुण्डा के कुतुबशाही सल्तनत की शह पर था। गोलकुण्डा, जो भेजी से लगा हुआ बड़ा और शक्तिशाली राज्य था उसे भौगोलिक रूप से सुरक्षित बस्तर में अपनी पैठ स्थापित करने के लिये भेजी के जमीदार को प्रभाव में ले कर उकसाना उचित लगा। यद्यपि इस विद्रोह का दमन कर दिया गया। इसके पश्चात से भेजी जमीदारी हमेशा बस्तर राज्य का हिस्सा बनी रही।


- राजीव रंजन प्रसाद

===========


कच्चा महल-पक्का महल
बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ (भाग – 52)



राजा दलपत देव ने जगदलपुर राजधानी के स्थानांतरण के पश्चात जिस राजमहल का निर्माण करवाया वह काष्ठ निर्मित थी एवं उसकी छत पर खपरैल लगायी गयी थी। वर्ष 1910 के महान भूमकाल आंदोलन के पश्चात ब्रिटिश शासन को यह महसूस होने लगा कि राजमहल तथा प्रशासकीय कार्यालय मजबूत हों एवं इसके लिये पक्का निर्माण कराया जाये। इसके लिये महल के साथ लगे लम्बे-चौडे प्रांगण को घिरवा कर ईँटों की ऊँची दीवार से किलेबदी की गयी। दक्षिण दिशा की ओर इस किले का मुख्यद्वार बनवाया गया। दोनों ओर विशाल सिंह की आकृतियाँ निर्मित की गयी जिसके कारण मुख्यद्वार का नाम सिंहद्वार पड़ गया। चार दीवारी की अन्य दिशाओं में भी प्रवेश द्वार बनवाये गये। सिंह द्वार से लग कर पूर्व की ओर रियासत की कचहरी के लिये कक्ष निर्मित थे। दरबार-हॉल को अस्त्र शस्त्रों और चित्रों से सुसज्जित किया गया। महल के सामने, बागीचे में अनेकों जलकुण्डों का निर्माण किया गया जिसमें सुनहरी और लाल मछलिया डाली गयीं। उद्यान को आधुनिकता देने के लिये सुन्दर युवती की मूर्ति स्थापित की गयी जिसके घडे से निरंतर जल गिरता रहता था। महल की पूर्व दिशा में हिरण और सांभरों को रखने के लिये लोहे के बाडे से घेर कर जगह बनायी गयी। स्थान-स्थान पर सीमेंट से बनाये गये जलकुण्ड थे जिनमें जानवरों के पीने के लिये पानी का निरंतर प्रवाह रखा जाता था। हाथीसाल, घुडसाल, बग्घियों को रखने के स्थल आदि का निर्माण महल परिधि में ही किया गया। अहाते के भीतर ही महल प्रबंधक तथा महल सुप्रिंटेंडेट के आवास बनवाये गये। महल की दीवारों से लग कर कई आउट हाउस थे, जिसमें राजकीय कर्मचारी रहा करते थे। राजा ने अपनी प्रतिष्ठा तथा शौर्य प्रदर्शन के लिये बाघ पाला, जिसे महल के सम्मुख ही पिंजरे में रखा जाता था। इसी दौर में मोटरगाडियाँ भी चलने लगी। परम्परागत हाँथी की जगह राजा के पास भी रोल्स रॉयस कार आ गयी थी। महारानी प्रफुल्ल कुमारी देवी ने भी अपने शासन समय में राजमहल में कई बदलाव किये। पिता के बनवाये महल से जोड़ कर अपने रहने के लिये आधुनिक सुविधाओं से युक्त नया महल बनवाया। इस महल के भूतल में ‘बिलियर्ड्स हॉल’ बनवाया गया। महल के उत्तरी दरवाज़े से लगा कक्ष ‘डॉल हाउस’ था, जिसमें राजकुमार-राजकुमारियों के खिलौने रखे हुए थे (दो महल, डॉ. के के झा)।



- राजीव रंजन प्रसाद


==========






टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...