रचनाकार परिचय:-

परिचय-
नाम-श्रद्धा मिश्रा
शिक्षा-जे०आर०एफ(हिंदी साहित्य)
वर्तमान-डिग्री कॉलेज में कार्यरत
पता-शान्तिपुरम,फाफामऊ, इलाहाबाद
संपर्क-mishrashraddha135@gmail.com

*गलतफहमी*

*प्यार*

प्यार में सब कुछ बर्बाद हो जाता है, प्यार करना ही नही चाहिए, लाइफ ही बेकार हो जाती है, नमन ने मीना को देखकर कहा।

मीना ने चुपचाप ट्रे उठायी और रसोईघर में चली गयी। ये कोई आज की बात नही थी जो मीना रोती या कुछ रियेक्ट करती। प्यार तो मीना ने भी किया है नमन से,मगर मीना ऐसा नही सोचती थी उसे भरोसा था कि उसका प्यार कभी नमन को हारने नही देगा।

इस बात को अभी तीन दिन ही बीते थे कि नमन को एक लेटर मिला। नमन बहुत खुश था उसने मीना को खुशी से उठा लिया और बोला देखा माँ की दुआ पूरी हो गयी। पापा का सपना सच हो गया आज मैं बहुत खुश हूँ। तीन दिन बाद जॉइनिंग है मीना, दादी का आशीर्वाद है ये उन्होंने इस बार कहा था कि तुझे नौकरी जरूर मिलेगी।

मीना भी नमन के लिए शॉपिंग लिस्ट बनाने लगी उसकी जरूरत का सब समान लगाया उसे पता भी नही चला कि तीन दिन कब बीत गए आज नमन को निकलना था।

मीना नमन के साथ स्टेशन तक गयी। नमन ट्रैन में बैठ गया मीना ने भारी आंखों से नमन को देखा। अभी नमन और मीना की शादी नही हुई थी फिर भी दोनों का रिश्ता ऐसा था जैसे सालो से पति और पत्नी हों।

ट्रैन चली गयी मीना खड़ी रही नमन का कॉल आया मीना को लगा शायद अब नमन उसके लिए कुछ कहेंगे,मीना ने आँशु पोछ के कॉल रिसीव किया। मीना मैं तो भूल ही गया तुम अब अकेले क्या करोगी यहाँ, ऐसा करो अपने घर चली जाओ। अब वही तैयारी करना। कोचिंग तो वैसे भी अब पुरी हो चुकी है।

मीना ने स्टेशन से बाहर आके ऑटो किया। और खुद से कहा नमन कोचिंग तो 1 साल पहले ही खत्म हो चुकी थी। उसे याद आया कि 1 साल पहले जब वो हार चुकी थी कि अब शायद ही उसे सरकारी नौकरी मिल पाये तो वो अपना रूम छोड़कर नमन के साथ शिफ्ट हो गयी। उसने नमन के साथ मिलकर फैसला किया कि अब वो नमन की जॉब के लिए जी जान लगा देगी।और एक प्राइवेट कॉलेज में पढ़ा लेगी। तब से नमन ने शायद एक गिलास पानी भी ले कर पिया हो, सुबह उठने से शाम तक मीना ने नमन के पीछे लगा दिए। आज उसे माँ की दुआ दादी के आशीर्वाद से नौकरी मिल ही गयी। प्यार से उसकी जिंदगी बर्बाद हो गयी थी।

ऑटो से उतर कर मीना का शरीर कमरे तक पहुँच गया। आज उसे पहली बार नमन की बात सच मालूम हुई प्यार में जिंदगी बर्बाद हुई! मगर किसकी?







0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget