HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

मरता कुआँ [कविता]- डॉ.मनोज कुमार

रचनाकार परिचय:-

डॉ.मनोज कुमार
शिक्षा : पीएचडी

पेशा: कंसलटेंट बायोकेमिस्ट नरेंद्र मोहन हॉस्पिटल गाजियाबाद
प्रकाशन: देश के पत्र पत्रिकाओं में अनवरत रूप से जैसे: अंतरराष्ट्रीय पत्रिका “सेतु” (अमेरिका) का जून 2017 अंक, हिंदी मासिक पत्रिका "ट्रू मीडिया",, मशाल(साझा-काव्य संग्रह) ,वर्तमान अंकुर ,विजय न्यूज़ करंट क्राइम दिल्ली मेट्रो और गज केसरी युग में रचनाएँ प्रकाशित वर्तमान पता: नरेंद्र मोहन हॉस्पिटल एंड हार्ट सेंटर मोहन नगर गाजियाबाद उत्तर प्रदेश सम्मान: जन मीडिया नई दिल्ली द्वारा नवोदित कवि के रूप में साहित्य सौरभ सम्मान/
e mail- manojkripi@gmail.com
2 . मरता कुआँ
स्रोत था जीवन का मै
अमृत था मेरा जल
तृप्त होते थे मुझसे तुम रोज
सिंचित करता था हर पल
करते थे पूजा सुबह शाम मेरी
था वर्चश्व तुम्हारे जीवन पर
सोते जागते थे तुम मेरे साथ
सुनता था तुम्हारे दुःख सुख की बात
जब से हुई है नल और कल से दोस्ती तुम्हारी
लुप्त हो रही है मेरी पहचान
है मेरे भी रिश्तेदार शहर के हर मुहल्लों में
अब वो भी हो गये विलुप्त
अब है मेरी बारी मै ले रहा हूँ अन्तिम साँसे
रो रही है आत्मा अब मेरी
कर रहे हो दफ़न मुझे
तड़पा तड़पा के हर रोज
मनाओगे ख़ुशी बना के मेरा कब्र
कोई नहीं चाहता जीर्णोद्धार मेरा
रोओगे तुम एक दिन
जब टूट जाएगी दोस्ती नल और कल की
देर हो जायेगी तब तक
खोदोगे मेरा क़ब्र मिलेगा अवशेष
नही मिलेगा जीवन का वह स्रोत
चाहते हो खुशहाली कर दो मेरा जीर्णोद्धार
करूँगा सिंचित सबको
यही है अंतिम
इच्छा हमारी

***************





टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...